Free में app kaise banaye?

नमस्कार दोस्तों, blogseva पर आपका स्वागत है। आज मैं आपको बताऊंगा app kaise banaye।

Apps हर जगह हैं।  इसके बारे में सोचो!  किसी भी popular brand के बारे में सोचें और आप पाएंगे कि उनके पास एक मोबाइल app है जिसे आप डाउनलोड कर सकते हैं।  Apps मुख्य रूप से businesses द्वारा ग्राहकों के लिए बनाए जाते हैं। उनके लिए, मोबाइल app उनकी sales को बढ़ावा देने में काम आते हैं क्योंकि app के ज़रिए customer के साथ interact करना आसान है।

हम हर रोज़ सैकड़ों apps का इस्तेमाल करते हैं। Phone खोलते ही हम apps का ही इस्तेमाल करते हैं। सोचिए जब बहुत से लोग आपके app पर आए और आप google ads के ज़रिए या products बेचकर पैसे कमा सकें।

अब सवाल आता है कि app कैसे बनाएँ?

वैसे तो app coding के ज़रिए बनता है जिसमें Java, php, JavaScript, आदि languages इस्तेमाल होती हैं और यह प्रोसेस काफी मुश्किल हो सकता है। आप यहाँ पढ़ सकते हैं coding करके app kaise बनाएँ?

पर आज मैं आपको बताऊँगा कि खुद बिना coding के app कैसे बनाएँ। जैसे आजकल बिना coding के website बन जाती है, वैसे ही app भी बना सकते हैं।

तो चलिए जानते हैं app kaise banaye। अगर आपको लेख पसंद आये तो अपने दोस्तों के साथ ज़रूर share करें। 


App requirements

App बनाने से पहले आपको कुछ चीजें ध्यान में रखनी होंगी और पहले ही इन के बारे में research करनी होगी ताकि आप उन्ही चीज पर focus करके app बना सकें।

1. Name, Type

पहले आपको अपने app के type और नाम के बारे में सोचना है। Apps कई तरह के होते हैं- payment apps, games, photo-video editor, fitness, beauty, art, dating, educational, govt service, social media, music आदि।

इन सभी के लिए आपको अलग- अलग तरह की coding और programming आनी चाहिए।

  • आप जो नाम चुनेंगे, उससे पता लगना चाहिए कि app किस बारे में है।
  • ऐसा नाम होना चाहिए कि लोगों को याद रह जाये।
  • नाम simple और easy होना चाहिए।

इसी के साथ-साथ आपको logo भी तैयार करना है। Logo कैसे बनाएं यहां पढ़ें।


2. Theme, Design

एक app में Theme बहुत बड़ा role play करता है। Theme देखकर लोग तय करते हैं कि app अच्छा है या नहीं।  

जैसे-

App kaise banaye
Bad design
Free app kaise banaye jate hain
Good design

Image credits: Justinmind

App का theme UI design से create किया जाता है।

  • App का theme brand colors से match होना चाहिए।
  • अलग- अलग industry के लिए अलग themes होती हैं जैसे बच्चों की लिए bright themes, commercial sector के लिए clean और modern theme आदि।
  • Theme में neatness और सफाई होनी चाहिए।

आपको पहले ही तय करना है कि आपके buttons, navigation आदि कैसे दिखेंगे।

  • साथ में background, shadows set करें।
  • Different font combinations को try करें।
  • और icons को research करें, लगाते समय इनके बीच space रखें और size पर ध्यान दें। 

3. Layout, Features

अब बारी आती है अपने layout को set करने की और उसके साथ buttons, features, content और animation जोड़ने की।

  • Blog– Blog हर app का main part होता है जिसमें regular updates के बारे में बताया जाता है। यहाँ app की description, creators info, instructions होते हैं।
  • Events– Events page यह बताता है कि app में आगे क्या नए features आएँगे, किस दिन update आएगा, कब features और offers प्रदान किये जायेंगे। अगर आप इसे push notifications के साथ combine करते हैं तो रोज़ users को offers के बारे में मैसेज भेज सकते हैं।
  • Chat support– Chat support, feedback और help एक basic feature है जिससे लोग आपको contact कर सकते हैं। वह अपनी problems आपको बता सकते हैं।
  • Social– अगर आप अपना business grow करना चाहते हैं या inflluencer की तरह बढ़ना चाहते हैं तो अपने social network को साथ में connect करके अपने follower count बढ़ा सकते हैं। 
  • Settings– Settings में लोग volume, brightness, graphics quality, dark mode, data usage को control कर सकते हैं।

इन सभी features के इलावा आपका main page होना चाहिए जिसमें आप music, game या service लगाना चाहते हैं।


4. Platform

App बनाने के बाद आपको उसको apple store, google playstore या samsung store, mi store भेजना होगा।

इनके लिए आपको उनकी guidelines पढ़नी होंगी। और फिर उन्हें connect करना होगा। जैसे-

  1. Apple guidelines. App store connect.
  2. Google Play Store guidelines. Play Store connect.
  3. Mi app store connect.

App को platform पर उतारने से पहले आपको उसे बार-बार Test करते रहना पड़ेगा कि उसमें कोई गलती तो नहीं है। आप इसके लिए दूसरे developers, अपने रिश्तेदार और दोस्तों की भी help ले सकते हैं। यह app बनाने का एक बहुत ही important process है।


5. Marketing, Feedback

यह चीजें आपको app बनाने के बाद करनी है। आपको अपने app को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाना है। इसके लिए आप social media marketing, influencer मार्केटिंग, google ads का इस्तेमाल कर सकते हैं।

साथ में आपको लोगों से feedback भी लेते रहना है ताकि आप अपने आप को और अच्छा बना सकें। एक app कभी भी perfect नहीं हो सकता। उसमें हमेशा कमी रहती ही है, इसलिए आपको इन चीजों पर हमेशा ध्यान देना पड़ेगा।


App kaise banaye

App बनाने के 5 तरीके हैं-

  1. Freelancer से बनवाएं– यह आपको app बनाकर देदेगा। आपको marketing और publish खुद करना पड़ेगा।
  2. App developer कंपनी– यह आपका पूरा app बनाएंगे, उसकी marketing करेंगे और content भी डालेंगे। यह एक business के लिए best option है।
  3. Coding– आपको खुद coding करनी पड़ेगी। इसे सीखने में और app बनाने में थोड़ा time ज़रूर लगेगा पर आपका app free में बनजायेगा।
  4. Template खरीदें– आप एक ही बार templete खरीदकर उसे खुद customize कर सकते हैं। इसके लिए भी थोड़ी programming सीखनी होगी।
  5. App builder– कुछ websites और apps हैं जिनकी मदद से आप खुद app बना सकते हैं। इसमें coding की ज़रूरत नहीं, बल्कि shapes और button की मदद से design कर सकते हैं। जैसे- appgyver, appy pie, bubble.io, appsgeyser, flutter आदि।

अगर आप खुद coding सीखकर app बनाने में सफल होते हैं तो ना के बराबर पैसे लगेंगे। अगर आप नीचे दिए गए तरीके से बनाएंगे तब भी free में बना सकते हैं पर इनसे प्रोफेशनल app नहीं बनेगा। 

Professional look के लिए developer या app builder की मदद से बनाएंगे तो पैसे खर्च हो सकते हैं। 


Appy pie se app kaise banaye?

इससे iPhone और android app दोनों बना सकते हैं। पर यह app पूरी तरह से free नहीं है। जानने के लिए नीचे पढ़ें।

  1. Google chrome पर appypie open करें।
  2. Create app पर click करें।
  3. पहले app का नाम लिखें, category चुनें, design चुनें, pages add करें, उनकी info edit करें।
  4. आप app का background, color, pages, layout, font आदि बदल सकते हैं।
  5. Last में build का option दिखेगा, वहाँ आपसे पूछा जाएगा कि आप किस platform के लिए app बनाना चाहते हैं।

Free में आप सिर्फ PWA option चुन पाएँगे जिसका मतलब है कि लोग उसे google chrome से apk में ही download कर पाएंगे।

Paid option में आप windows, android, iphone के लिए apps बना पाएंगे जिनका खर्चा है- Rs. 5000, 7500, 20 हज़ार प्रति साल।


Appsgeyser se app kaise banaye?

इस तरीके से आप android app FREE में बना सकते हैं।

  1. Google chrome पर जाएं और appsgeyser search करें। 
  2. वहाँ अपने gmail account या facebook account से login करें।
  3. Login करते ही आपको “Create App For Free” button दिखेगा, उसपर click करें।
  4. फिर 2 option मिलेंगे, business या individual, उनमें से select करें।

Business select करने पर आपको इनके apps बना सकते हैं- Business Website, Youtube, facebook Page, Page, HTML Code, Rss, PDF Tab आदि।

Individual select करने पर यह apps दिखेंगे-

video call, messenger, photo editor wallpaper, tiktok, photo keyboard, word search, puzzle आदि।

  1. उनमें से किसी को भी चुन सकते हैं, अगली screen पर आपको template description दिखेगा।
  2. Next पर click करें। फिर आपसे कुछ चीज़ें पूछी जाएंगी जैसे app का नाम ,उसके colors, button colors, logo upload आदि।
  3. यह सब आपको set करना है। Last में Create button पर click कर देना है।
  4. इससे आपका app बनकर तैयार हो जाएगा, ज़्यादतर यह 15MB से बड़ा ही होता है।
  5. फिर आपसे पूछेंगे कि app को आपकी email में send करें या QR code को scan करके download करें।
  6. कोई भी option चुनें, आपका app apk के रूप में download हो जाएगा।
  7. बाद में आप उसको Google Play Store पर भी upload कर सकते हैं।

App से पैसे कैसे कैमाएँ?

App से पैसे कमाने के कई तरीके हैं-

  1. Advertising– अपने app में ads दिखाएं। यह ads अलग-अलग format की हो सकती हैं जैसे full screen, banner ad, reward video ad आदि। एक अच्छी advertising कंपनी है admob जो Google द्वारा बनाई गई है।
  1. Subscription– इस तरीके से आप लोगों को premium features दे सकते हैं। इसके basic version में limited features होते हैं। जैसे spotify, youtube premium, netflix।
  1. Paid app– आप एक paid app भी बना सकते हैं। इसका disadvantage यह है कि इसे कम ही लोग डाउनलोड करते हैं। पर यह apps normal apps से ज़्यादा smooth, fast और प्रोफेशनल होते हैं। जैसे minecraft, GTA, hitman sniper आदि।
  1. Sell products– सीधा products sell करें और ecommerce से पैसे कमाएँ। जैसे ajio, myntra, amazon आदि।
  1. In- app purchases– यह तरीका सबसे ज़्यादा games में इस्तेमाल होता है जहां लोगों को real money के बदले game coins या features, level ups दिए जाते हैं। जैसे Clash of clans, Pubg, Clash royale।

Apps से पैसे कमाने का यह सबसे बढ़िया model है क्योंकि लोग जल्द से जल्द गेम को खत्म करना चाहते हैं और अपने दोस्तों से आगे बढ़ना चाहते हैं। इस race में वह ज्यादा coins और gems खरीदते हैं। और इन्हें खरीदना आसान भी होता है क्योंकि यह Rs.50-100 तक मिल जाते हैं।

  1. Sponsorship– अगर app किसी topic पर बना है तो उस topic की कंपनियों के बारे में लिखकर या उसे दूसरों से आगे दिखाकर उनसे पैसे ले सकते हैं। जैसे Amazon पर कुछ search करें तो ऊपर वाले results sponsored होते हैं, कंपनी ऊपर आने के लिए amazon को पैसे देती हैं।
  1. Affiliate marketing– आपको एक product का link या image दिखाना है। अगर लोग उस product को खरीद लेंगे तो आपको थोड़ा commission मिलेगा। जैसे- amazon affiliate, cj affiliates, bluehost आदि। इसके बारे में यहाँ पढ़ें।
  1. Selling data– क्या आपने कभी देखा है कि आपके नंबर पर ऐसी कंपनियों से मैसेज आता है जिनको आपने कभी नंबर नहीं दिया। कई apps आपका और हज़ारों अन्य लोगों का नम्बर कंपनियों को बेच देते हैं और पैसे कमाते हैं।
  1. Transaction fees– Transaction apps जैसे paytm, paypal, phonepe आदि। ऐसे apps बनाकर आप हर transaction में से transaction fees काट सकते हैं।

तो यह सभी तरीके से जिनसे आप apps के द्वारा पैसे कमा सकते हैं।


App बनाने के फायदे

  • Easy– App वेबसाइटों की तुलना में ज़्यादा popular हैं, क्योंकि उनको इस्तेमाल करना आसान हैं। Apps तेज़ी से load होते हैं, अच्छा experience प्रदान करते हैं और यह स्क्रीन पर वेबसाइट की तुलना में अच्छे से fit हो जाते हैं। इनमें notification भी होती है।
  • Regular use– Regular इस्तेमाल करने के लिए apps ज्यादा बढ़िया होते हैं क्योंकि फोन unlock करते ही यह सामने दिखते हैं और आसानी से खोले जा सकते हैं। 
  • Offline– इसका एक बड़ा फायदा है कि इसे offline भी इस्तेमाल किया जा सकता है पर वेबसाइट को ऑनलाइन ही इस्तेमाल कर सकते हैं।

App बनाने के नुकसान

  • Requirements– एक app की कुछ system requirement हो सकती हैं। जैसे slow ram और कम storage वाले फोन पर डाउनलोड नहीं हो सकते। साथ में इसे अलग platform जैसे Apple, Windows, android के लिए अलग version निकालना पड़ता है।
  • Update– हर एक user को app update करना पड़ता है जिसमें data बहुत इस्तेमाल होता है। एक ही update लाने के लिए बहुत पैसा और time खर्च होता है। 

Conclusion

मुझे उम्मीद है कि आप को इस से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा और समझ आ गया होगा app kaise banaye।

आपको यह article पसंद आया तो आप इसको अपने दोस्तों के साथ जरूर share कीजिएगा। 

आज हमने सीखा-

  1. Free app kaise banaye in hindi
  2. Apna app kaise banaye jate hain
  3. Aap kaise banaye
  4. Play Store par app kaise banaye

आप का experience कैसा रहा आप उसे नीचे comment box में share कर सकते हैं और अगर आपको कोई doubt या problem है तो आप मुझसे नीचे comment box में पूछ सकते हैं या email कर सकते हैं।

मैं आपको जल्द से जल्द reply देने की कोशिश करूँगा। 

धन्यवाद……..।

app kaise banaye  पढ़ने के लिए शुक्रिया।


FAQ (Frequently Asked Questions)

App Banane ki Website

App बनाने के लिए website हैं- appypie, appsgeyser, flutter आदि।

प्ले स्टोर पर अपना ऐप कैसे बनाएं

Play Store पर app बनाने के लिए आप coding करवा सकते हैं, app builder से बना सकते हैं या app making websites से बना सकते हैं।

गेम एप्प कैसे बनाये

Simple game app आप appsgeyser के ज़रिए बना सकते हैं। अगर आपको प्रोफेशनल गेम्स बनानी हैं तो programming languages सीखनी होंगी।

अपने नाम का ऐप कैसे बनाएं

अपने नाम का app बनाने के लिए appsgeyser, appypie का इस्तेमाल करें।

गूगल ऐप कैसे बनाएं

Google app बनाने के लिए किसी programmer से app develop करवा सकते हैं, खुद coding सीखकर app builder से बना सकते हैं या free app maker websites से बना सकते हैं।

वेबसाइट कैसे बनाये

वेबसाइट बनाने के लिए 2 चीजों की ज़रूरत पड़ती है। Hosting और domain। आप free में भी website बना सकते हैं और paid भी।

App kaise banaye
Follow me
Latest posts by Aryan (see all)

Leave a Comment