Coding kya hai? Coding क्या है?

नमस्कार दोस्तों, blogseva पर आपका स्वागत है। आज मैं आपको बताऊँगा coding kya hai और coding kaise sikhe।

आपने Coding के बारे में तो सुना ही होगा। TV पर आजकल इसकी ads आने लगी हैं और आज के ज़माने में एक यह एक बहुत ही popular job है।

जो भी app, website, software, robotics, artificial intelligence, बनता है, वह सब coding से होता है। पहले लोग coaching से इसे सीखते थे, धीरे- धीरे यह schools में आया और अब लोग इसे free में internet पर ही सीख लेते हैं।

कुछ लोग इससे खुद की websites बनाते हैं और पैसे कमाते हैं, कुछ job कर दूसरों के लिए बनाते हैं और कुछ Google या facebook में काम करने के लिए सीखते हैं।

पर हाँ, इसको सीखने के लिए मेहनत बहुत करनी पड़ती है, आपका खुद से ही interest होना चाहिए। क्योंकि coding सिर्फ एक ही language नहीं होती इसके लिए कम से कम 5-6 languages सीखनी पड़ती हैं। 

अगर आप coding का उदाहरण देखना चाहते हैं तो इसे view-source:https://blogseva.com/coding-kya-hai-aur-kaise-sikhe-in-hindi/ copy करके और google में paste करके इसी page के पीछे की coding देख सकते हैं।

पूरी coding के दौरान एक “;” भी इधर- उधर होता है तो coding नहीं चल पाती। कहने का मतलब है कि यह एक बहुत ही मेहनत, सटीकता और खरेपन का काम है

और आज मैं आपको बताऊँगा coding kya hai, coding kaise sikhe, coding के फायदे, coding के नुकसान आदि।

Also ReadBlog/ website से पैसे कैसे कमाएँ?

तो चलिए, अब जानते हैं coding kya hai।


Coding kya hai?

Coding kya hai

Computer सिर्फ 0 और 1 ही समझता है, यह हमारी तरह English या हिंदी नहीं समझता। Computer को थोड़ा कुछ समझने के लिए भी लाखों या करोड़ों 0 और 1 कि ज़रूरत पड़ती है। 

जैसे– I love apple. यह बदल जायेगा इसमें- 01001001 00100000 01101100 01101111 01110110 01100101 00100000 01100001 01110000 01110000 01101100 01100101 00101110

अब अगर कोई बड़ा message हुआ तो computer तो लाखों और करोड़ों 0,1 को कुछ seconds में समझलेगा। पर इंसान इतने 0 और 1 को नहीं लिख सकता।

इसलिए coding language का अविष्कार हुआ।

Coding language इन 0-1 और हमारी भाषा के बीच का एक पुल होता है। इससे हम computer को बता सकते हैं कि क्या करना है। 

Coding को Programming language भी कहा जाता है। आज दुनिया में करीब 700 तरह की coding language हैं। एक coder को कम से कम 5-6 language तो आनी ही चाहिए।

जैसा कि मैंने बताया की कोडिंग से app, website, software, robot आदि बनते हैं इसलिए इसकी माँग इतनी बढ़ गयी है।

आने वाले समय में जो coding कर सकेगा, उसको job मिल सकती है, अगर job नहीं भी मिलती, तो वह घर पर खुद app या website बनाकर पैसे कमा सकता है।

और जैसे- जैसे देश technology में आगे बढ़ रहा है इसलिए बच्चों को coding भी तेज़ी से सिखाई जा रही है।

अगर coding न होती तो आज smartphone, computer, facebook, calculator, fridge, tv, car आदि न होते और हम कभी चाँद पर भी नहीं पहुँच पाते।


क्या इसे सीखना मुश्किल है?

जो लोग technology पसन्द करते हैं, उनके लिए इसे सीखना आसान होगा क्योंकि उनका interest नहीं हटेगा। जो लोग सीखना ही नहीं चाहते वे नहीं सीख पाएँगे, क्योंकि बहुत कुछ सीखना पड़ता है इसमें।

इसमें पहले आसान coding languages सिखाई जाती हैं फिर मुश्किल। और जो व्यक्ति रोज़ practice करेगा, वह बहुत जल्दी professional coder बन जायेगा।

इसके साथ typing fast होनी चाहिए और code कैसा दिखेगा, इसको कल्पना करना आना चाहिए, जो बन्दा धीरे- धीरे सीख जाता है।

जो coding language मुश्किल लगती है वह इसलिए नहीं कि उसे समझना मुश्किल है पर इसलिए कि उसमें practice कम करी है। आखिर वह एक भाषा ही है, उसको जितना समय देंगे उतना ही expert बनेंगे।


Coding languages

वैसे तो गिनती में coding languages 700 से भी ज़्यादा हैं पर ज़्यादातर popular languages 10- 11 ही हैं। जैसे- Html, C#, C++, Python, Java, JavaScript, CSS, PHP, Mysql, .Net , Ruby आदि।

एक website को बनाने के लिए हम लगभग 4-5 Programming Languages का प्रयोग करते हैं। एक app को बनाने में Kotlin, Java, C++ आदि का प्रयोग होता है। Hacking के लिए Python का प्रयोग किया जाता है।

एक beginner को html language से शुरुआत करनी चाहिए।

Also Read: Flipkart से मैंने 4 लाख कैसे कमाए?


Coding scope 

Coding सीखकर हम सिर्फ programmer/ coder ही नहीं बन सकते बल्कि हम बहुत सी jobs के लिए apply कर सकते हैं-

1. Web Developer

Web developers internet websites बनाते हैं। यह ज़्यादतर html, css, java का इस्तेमाल करते हैं। और महीने का 50k- 80k तक कमा सकते हैं।

2. Database Administrator

Database administrators coding की मदद से data storage और backups बनाते हैं। यह languages ज़्यादतर SQL, C या C++ होती हैं। एक beginner data administrator महीने का 40k कमा सकता है और 5-6 साल के experience में महीने का 80k- 90k कमा सकता है।

3. Information Security Analyst

Information security analysts वह लोग होते हैं जो ऐसा software बनाते हैं जो data files को protect करता है और data को hackers और spammers से बचाता है। यह एक महीने का Rs.30,000 – 1 लाख तक कमा सकते हैं।

4. Application Developer

Application developers ऐसे software बनाते हैं जो tv, smartwatch, smartphone, tablets पर चलते हैं, मतलब यह apps बनाते हैं। यह 60k- 70k/ month तक कमा लेते हैं।

5. Health Informatics Specialist

Health informatics specialists hospital machines और patient record के लिए softwares बनाते हैं। एक health informatics specialist 30k- 40k/month तक कमा सकता है।

6. Instructional Designer

Instructional Designer students के लिए teaching material software बनाते हैं। Instructional designer महीने का 30k- 90k तक कमा सकता है।

7. Digital Marketing Manager

Digital marketing managers apps और softwares की मदद से product या company की marketing करते हैं। Digital marketing managers महीने का 50k- 1.25 लाख तक कमा सकते हैं।

Coding scope

Coding का scope बहुत है, आप इससे jobs तो ले ही सकते हैं पर खुद के लिए coding करने में ज़्यादा फायदा है। जैसे इससे हम अपना business भी कर सकते हैं। 

  1. अच्छे softwares बना कर उनको बेच सकते हैं। जैसे adobe premier, photoshop, आदि।
  1. Games बना सकते हैं जो बहुत ही ज़्यादा बिकती हैं। जैसे GTA, minecraft आदि।
  1. E – Commerce/ online store बना सकते हैं और अपने business को बढ़ा सकते हैं।
  1. Blog बना सकते हैं, बिना coding के भी। और google adsense और affiliate marketing से पैसे कमा सकते हैं।

Also Read: MPL से खेलकर कैसे कमाएँ?


Coding के फायदे

  • यह एक high demand job है। जैसे technology बढ़ रही है, वैसे coders की demand भी बढ़ती जा रही है।
  • यह high paying job है। शायद India में इतनी income न मिले पर US जैसी countries में इसकी income बहुत ज़्यादा है। आप US जाए बिना भी वहाँ से freelancing पर काम ले सकते हैं
  • इससे logical reasoning, creativity बढ़ती है। इससे दिमाग की शक्ति बहुत बढ़ती है।
  • Coding करके lockdown में भी आराम से पैसे कमा सकते हैं

Coding के नुकसान

  • यह एक dynamic field है, इसमें आपको लगातार new languages सीखती रहनी पड़ेंगी demand की हिसाब से।
  • Coding health के लिए हानिकारक है क्योंकि पूरा दिन chair पर बैठना, आँखों पर ज़ोर, neckpain health खराब करते हैं
  • कई languages में एक “;” का भी फर्क हो, तो वह नहीं चल पाता, errors को हटाते- हटाते stress बढ़ने लगता है

पर मुझे नहीं लगता आपको इस किसी भी कारण की वजह से पीछे हटना चाहिए क्योंकि इतनी छोटी मोटी problems तो हर profession में होती हैं।

Also Read: Online पैसे कैसे कमाएँ? 44 ways।


Coding kaise sikhe

Coding languages 2 तरह की होती हैं-

  1. Frontend languages– यह website का look देने के लिए होती हैं। जैसे- Html, CSS, JavaScript आदि।
  2. Backend languages– यह website की functioning बनाने के लिए होती हैं। जैसे- Java, Python, Ruby, Mysql आदि।

Frontend languages सीखनी आसान होती हैं इसलिए लोग सिर्फ इन्हें सीखकर ही companies में jobs या freelancing में लग जाते हैं।

Coding के लिए किसी professional course में पैसे लगाने की जरूरत नहीं है। दुनिया के कुछ best coders ने खुद ही coding को सीखा है। Internet में हमें free में सारी knowledge मिल सकती है।

  • Notepad++, Sublime Text, Bluefish, Visual Studio Code आदि जैसे code editors से beginners को काफी मदद मिलती है।
  • यहाँ तक कि Minecraft, Robocode, and Lightbot जैसी games से भी coding सीखी जा सकती है।
  • आजकल यह school में भी सिखाया जाता है और college में Btech की degree में सिखाया जाता है। College में वही सीख सकते हैं जिनके JEE exam में ज़्यादा number आये हों। पर जिनके number नहीं आये वह online सीख सकते हैं क्योंकि company आजकल degree नहीं देखती, वह देखती है किसको ज़्यादा काम आता है।

आप google के grasshopper app से भी coding सीख सकते हैं जो beginners के लिए बनाया गया है। Google से आप course का certificate भी पा सकते हैं।

Online सीखने पर आपको certificate भी मिल जाते हैं तो आप आगे लोगों को दिखा सकते हैं कि आपने coding सीखी है।

Also Read: Free blog बनाएँ 5 min में।


Conclusion 

तो दोस्तों, मैं उम्मीद करता हूँ आपको समझ आ गया होगा कि coding kya hota hai in hindi और coding kaise sikhe। 

यह बहुत आसान है, आपको बस रोज़ practice करनी है और आप आसानी से इसे कर पाएँगे।

आज हमने सीखा-

  • कंप्यूटर कोडिंग कैसे सीखें?
  • कोडिंग की पढ़ाई क्या है
  • ऑनलाइन कोडिंग कैसे सीखें?
  • कोडिंग से क्या होता है
  • कोडिंग किसे कहते हैं?
  • जावा क्या है?

अगर आपको यह article पसन्द आया तो इसे ज़रूर share करें और अगर आपको कोई doubt है तो आप उसे नीचे comment box में पूछ सकते हैं।

Also Read: SEO friendly article कैसे लिखें?

धन्यवाद…।

Coding kya hota hai, coding kaise sikhe, coding ke fayde पढ़ने के लिए शुक्रिया।


FAQ (Frequently Asked Questions)

कंप्यूटर कोडिंग कैसे सीखें?

आजकल तो school में भी बच्चों को coding सीखाने लगे हैं, पर आप online भी सीख सकते हैं। जैसे- CodeAcademy, KhanAcademy, w3school, WhiteHatJr. आदि।

कोडिंग की पढ़ाई क्या है?

Coding में उन languages को सिखाया जाता है जिनसे computer website, software आदि बना सकते हैं। इसके लिए online सीखा जा सकता है free में, या institute से course भी कराया जा सकता है। ज़्यादातर 5-6 languages सिखाई जाती हैं जिनमें 1 साल तक लग सकता है।

जावा क्या है?

Java एक coding language है जिससे website, app, software बनाये जाते हैं। यह बहुत मशहूर है, हर coder को Java आनी ही चाहिए।

Coding क्लास क्या है? Coding class meaning in hindi।

Coding class में आपको coding भाषाएँ सिखाई जाती हैं जिनसे websites, apps आदि बनते हैं। Technology की वजह से कोडिंग की माँग बहुत बढ़ गयी है।

Aryan
Follow me

Leave a Comment