Blogging hindi me ya english ? कौन सी भाषा में ब्लॉग शुरू करें ? | Hindi Vs English

नमस्कार दोस्तों।

हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।क्या आपके भी मन में यही सवाल गूँज रहा है कि blogging hindi me करें या blogging english में करें

यकीन मानिए यह सिर्फ आपका ही नहीं बल्कि सैंकड़ों लोगों का सवाल है जो ब्लॉग बनाकर कामयाबी पाना चाहते हैं पर इस सवाल से चिंतित हैं की क्या blogging in hindi language करें या नहीं ?

अगर आप यह सवाल पूछ रहे हैं तो इसका मतलब आपको ब्लॉग के बारे में पता ही होगा और blogging की जानकारी रखते होंगे। लेकिन अगर आपको नहीं पता की , तो परेशान न हो |

Also Read :- Blog क्या है और blogging कैसे करे? (जाने व सीखें )

Also Read :- 2020 में apna blog kaise banaye step by step ?(Make a blog in Hindi)

आजकल blogging प्रचलन में है और बहुत से लोग इसकी ओर खिंचे चले जा रहे हैं।पर ब्लॉग शुरू करने से पहले सब सोचते हैं कि हिंदी में ब्लॉग शुरू करे या इंग्लिश में। हर कोई सोचता है future of hindi blogging और hindi me blogging ka scope |

इसलिए आज मैं आपको बताने जा रहा हूँ blogging hindi vs english के फायदे और नुकसान। फिर आप खुद निश्चत कर सकते हैं कि आपको कौन से भाषा में blog बनाना है |

English me blogging kare ( अँग्रेजी में ब्लॉग्गिंग )

Blogging hindi ya english
Blogging hindi ya english

आइये देखते है की अगर आप english blogging करते है तो आपको क्या फ़ायदे होंगे और क्या नुकसान | इसे पढ़ने के बाद आपको समझ आजायेगा की क्या आपको blogging in hindi language करनी चाहिए या नहीं | साथ -ही – साथ हम आपको बताएँगे blogging:hindi vs english

फ़ायदे

English में blogging करने के बहुत फ़ायदे है |

  • High cpc

English ब्लॉग सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि बहुत देशों में पाए जाते हैं। बड़ी economy वाली countries के brand अपनी मार्केटिंग पर बहुत पैसा खर्च करते हैं। 

वह अपनी मार्केटिंग गूगल ads के द्वारा भी करते हैं और फिर वही पैसा उन लोगों के पास जाता है जिनके ब्लॉग पर उनकी ad दिखती है। Ads में एक factor होता है “cpc”- cost per click, अगर brands ज़्यादा पैसा खर्च करते हैं तो यह भी high रहता है।

इसलिए ऐसे देशों के bloggers high cpc होने के कारण अपने ब्लॉग से अच्छे पैसे कमा लेते है |

  • Multiple Topics

अगर आप english blogging करते हो , तो आप ऐसे बहुत सारे विषयों पर लिख सकते हो जिन पर hindi में गहराई में लिखना समझदारी नहीं होगी क्यूंकि उन विषयों को hindi में कोई भी पढ़ना ही नहीं चाहता |

  • Worldwide exposure

English में ब्लॉग बनाने का यह फायदा है कि english बोलने वाले लोग आपको हर देश में तकरीबन मिल ही जाएंगे इसलिए हर कोई english blog पढ़ता है। 

इससे आपके ब्लॉग का दूर देशों में भी नाम हो जाता है और ज्यादा ट्रैफिक होने की वजह से ज्यादा profit भी होता है।

नुकसान

अभी देखते है english blogging के क्या disadvantage है |

  • High competition

English blogging में जो सबसे बड़ी परेशानी आती है वह यह होती है कि इस समय English blogging में बहुत ज्यादा competition है। 

भारत में भी अगर आप देखें तो लोग अपनी मात्र भाषा में इतना नहीं लिखते जितना इंग्लिश में ब्लॉग लिखते हैं। इसकी वजह से आज की date में इंग्लिश ब्लॉग शुरू करना और रैंक करना बहुत ही कठिन काम है।

इसको professional bloggers भी मुश्किल से रैंक करवा पाते हैं तो एक नए ब्लॉगर को लगभग 2-3 साल लग ही जायेंगे एक ब्लॉग को authority ब्लॉग बनाते हुए।

  • More hardwork

अगर आप blogging को लेकर serious हैं और सच में एक अच्छा ब्लॉग चलाना चाहते हैं तो आपको बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी, ऐसी मेहनत कि ना आपको दिन देखना है और न रात।

क्योंकि English blogging सिर्फ article लिखना ही नहीं होता बल्कि उसकी keyword research, on page seo, backlinks , सब करना होता है।

Also Read :- Keyword क्या है और Keyword Research कैसे करे in 2020 ? (Keywords in Hindi )

ऐसा करके आप जरूर एक दिन English blog भी रैंक करवा सकते हैं। 

  • Time consuming

जब ज़्यादा मेहनत लगती है तो समय भी ज़्यादा ही लगेगा जिसकी वजह से बहुत से लोग blogging छोड़ देते हैं क्योंकि वह निराश हो जाते हैं। 

जरूर ब्लॉग चलाना समय लेता है पर उसके बाद उसका परिणाम और उसका फल भी मीठा होता है।

  • More “high quality” backlinks

English blogging में high authority वेबसाइट और  ब्लॉग की कमी नहीं है। अगर आप अपने ब्लॉग के लिए एक अच्छा बैकलिंक बनाना चाहते हैं तो में आपको आसानी से मिल सकता है पर आपको उनसे बैकलिंक लेने का तरीका आना चाहिए। 

आपको उनको दिखाना होगा कि आप English blogging को लेकर serious हैं और सिर्फ पैसा ही नहीं कमाना चाहते पर अपने articles से दूसरों तक जानकारी पहुँचाना चाहते हैं और उनकी मदद करना चाहते हैं।

Also Read :- Backlink kya hai aur kaise banaye?( बैकलिंक क्या है और कैसे बनाएँ?)

  • Pick researched niche

बहुत high competition होने की वजह से आप किसी भी niche या टॉपिक को ऐसे ही नहीं चुन सकते। आपको niche चुनने के लिए भी बहुत रिसर्च करनी होगी। 

आपको एक बहुत ही detailed topic ढूँढना होगा जिसे हम micro niche ब्लॉगिंग कहते हैं। 

यह आजकल प्रचलन में है क्योंकि आप किसी चीज के बारे में detail में लिखकर एक broad niche वाले ब्लॉग से ऊपर अपना आर्टिकल रैंक करवा सकते हैं। 

Also Read :- Blog के लिए blog niche कैसे चुने ? | 70 Blogging niche ideas हिंदी में !!

साथ ही साथ आपको अपने ब्लॉग पर ट्रैफिक लाना और उसे रैंक करवाने में कम समय लगेगा।

Blogging in hindi ( हिंदी में ब्लॉग)

Blogging hindi ya english
Blogging hindi ya english

आइये देखते है की अगर आप hindi blogging करते है तो आपको क्या फ़ायदे होंगे और क्या नुकसान | इसे पढ़ने के बाद आपको समझ आजायेगा की क्या आपको blogging in hindi language करनी चाहिए या नहीं | साथ -ही – साथ हम आपको बताएँगे की hindi me blogging kaise kare और hindi me blogging ka scope

फायदा

अभी समझते है की hindi blogging के क्या फ़ायदा है |

  • Low competiton

English blogging तो 2004 से चली आ रही हैं पर हिंदी ब्लॉग अभी 2015-16 से शुरू हुए हैं। इसलिए अभी बहुत कम competition है। पर धीरे- धीरे लोग यहाँ भी बढ़ रहे हैं। 

यह बात 5 साल बाद कहनी मुश्किल होगी कि competition कम होगा या नहीं ,इसलिए अभी एक ब्लॉग की शुरुआत करने का golden time है।

Also Read :- Blog क्या है और blogging कैसे करे? (जाने व सीखें )

Also Read :- 2020 में apna blog kaise banaye step by step ?(Make a blog in Hindi !!!..??)

  • Pick any niche

Google के QuestionHub के अनुसार इंटरनेट पर हिंदी में 0.1% से भी कम जानकारी है, इसलिए वह हिंदी bloggers को प्रोत्साहित करते हैं कि वह हिंदी में और जानकारी लिखें। 

इसलिए कम जानकारी होने की वजह से आप अभी किसी भी niche के ऊपर लिख सकते हैं क्योंकि अभी आर्टिकल रैंक करना आसान होगा। 

Also Read :- Blog के लिए blog niche कैसे चुने ? | 70 Blogging niche ideas हिंदी में !!

  • Less hardwork

चूंकि अभी कम लोग और कम content है, इसलिए ब्लॉग बनाने और आर्टिकल लिखने में इतनी मेहनत की ज़रूरत नहीं है। 

अगर आप अभी से एक ब्लॉग शुरू कर देते हैं और धीरे-धीरे आर्टिकल डालते हैं और काम करते हैं तो भी आने वाले कुछ सालों में वह रैंक हो जाएगा और अच्छी income generate करेगा।

  • Less time

हिंदी हमारी मात्र भाषा है इसलिए हिंदी में सोचने में ज़्यादा समय नहीं लगता, आप अपनी बात लोगों तक आसानी से पहुँचा सकते हैं।

जिसे हिंदी keyboard से लिखने में परेशानी है वह google speech-to-text  का इस्तेमाल कर सकता है।या फिर आप google input tools का chrome extension download कर सकते है |

  • Not much SEO required

जैसा कि मैंने बताया कि हिंदी में इतने ब्लॉग नहीं है इसलिए seo की भी इतनी ज़रूरत नहीं है। 

हमें seo की इसलिए जरूरत पड़ती है ताकि हम दूसरे लोगों के article के ऊपर अपना article रैंक करवा सकें पर हिंदी में लिखते समय आप जो भी आर्टिकल लिखते हैं वह पहले से ही रैंक हो जाए इसके बहुत ज़्यादा chances रहते हैं

Also Read :- How to do On Page SEO in hindi in 2020 ?( On Page SEO क्या है ?

  • Less “high quality” backlinks

अपने article को रैंक कराने में जो सबसे बड़ी परेशानी आती है वह यह होती है कि हमें quality backlinks नहीं मिलते पर हिंदी में ज्यादा backlink की जरूरत ही नहीं है। 

आप अगर 1 या 2 बैकलिंक भी एक अच्छी वेबसाइट से ले लेते हैं तो आपके article पर अच्छा ट्रैफिक आ सकता है, बस आपको एक high authority ब्लॉग ढूँढना होगा। 

Also Read :- Backlink kya hai aur kaise banaye?( बैकलिंक क्या है और कैसे बनाएँ?)

इसके लिए आप गूगल पर सर्च कर सकते हैं high authority hindi ब्लॉग और उनसे बैकलिंक का अनुरोध कर सकते हैं।

नुकसान

चलिए अब देखते है की hindi blogging के क्या disadvantages है |

  • Low cpc

मैंने ऊपर आपको बताया था कि high cpc होने के क्या फायदे होते हैं, जितना ज्यादा cpc होता है उतना ही ज्यादा per click पैसा मिलता है। CPC का fullform है cost per click |

पर कम cpc होने की वजह से अगर आपअपनी website पर अच्छा ट्रैफिक भी ला रहे हैं तो कम पैसे ही मिलते हैं। भारत में ज़्यादातर 1000 views पर ₹20-₹150 मिलते हैं पर US जैसे देशों में यह ज़्यादातर ₹500 तक मिलते हैं।

  • Less profit

Low cpc होने के कारण profit भी कम रहता है, इसलिए हिंदी bloggers ज़्यादातर और तरीके भी ढूँढ़ते हैं जैसे affiliate marketing , youtube , instagram marketing आदि |

Also Read :- Affiliate Marketing Kya Hai?Affiliate Marketing Kaise Kare?एफिलिएट मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए in 2020 ?

Also Read :- Instagram से पैसे कैसे कमाए ? (Instagram se paise kaise kamaye?)

पर क्योंकिhindi blogging अभी भारत में शुरू ही हुआ है इसलिए आने वाले सालों में cpc बढ़ने की संभावना है।

  • Limited to hindi speakers

हिंदी ब्लॉग वह ही पढ़ेंगे जो हिंदी  बोलते होंगे और ज्यादातर शहरी लोग english में ही पढ़ते हैं। साथ ही साथ आजकल hinglish का भी प्रयोग होने लगा है।

इसलिए हिंदी में ब्लॉग चलाना कठिन कार्य हो सकता है पर वहीं अगर दूसरी ओर भारत की जनसंख्या देखी जाए तो हमें बिल्कुल भी चिंता करने की जरूरत नहीं है क्योंकि आपके ब्लॉग को पढ़ने वाले लोग हमेशा ही रहेंगे।

English blog पढ़ने वाले सारे लोग internet का इस्तेमाल करते है , लेकिन अभी भी hindi blog पढ़ने वाले सभी लोगों के पास internet नहीं आया है , इसलिए अब जो भी लोग internet पर आएंगे , वो hindi बोलने वाले या आपकी मातृभाषा बोलने वाले लोग ही होंगे |

  • Less font options

हिंदी में लिखते समय मुझे इस चीज में परेशानी आती है कि हिंदी font styles कम होते हैं और हिंदी में formatting options भी कम होते है।

इससे आप अपने ब्लॉग को उस तरह निखार नहीं सकते जैसा आप चाहते हैं पर अगर आप थोड़े पैसे लगाते हैं और एक अच्छी theme और plugin ले लेते हैं तो इस परेशानी से भी छुटकारा पा सकते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

मैं उम्मीद करता हूँ दोस्तों कि आपको समझ आ गया होगा blogging hindi vs english या फिर future of hindi blogging | अब आपको समझ आ गया होगा की hindi me blogging kare ya nahi

हमने आपके सामने इंग्लिश और हिंदी ब्लॉग के फायदे और नुकसान लिख दिए हैं। अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप कौन से तरीके का ब्लॉग बनाते हैं।

ऐसा नहीं है कि इंग्लिश ज़्यादा अच्छा है या हिंदी ज़्यादा अच्छा है, पर यह दोनों अलग- अलग तरीकों के ब्लॉग के लिए अच्छे हैं।आपको उस भाषा में लिखने चाहिए , जिसमे आप ज़्यादा अच्छे से समझा सकते है |

अगर आपको यह आर्टिकल पसन्द आया तो इसे ज़रूर शेयर कीजिये। अगर आपका कोई दोस्त या सहकर्मी इसे नहीं चुन पा रहा है तो आप उससे यह भेज सकते हैं। 

यह पढ़कर आपका क्या अनुभव था इसे हमारे साथ नीचे comment बॉक्स में जरुर शेयर कीजिए और अगर आपका कोई भी सवाल है तो आप निःसंदेह हमसे पूछ सकते हैं।

धन्यवाद…..।

Leave a Comment