Barcode kya hai? बारकोड क्या है?

नमस्कार दोस्तों, blogseva पर आपका स्वागत है। आज मैं आपको बताऊँगा Barcode kya hota hai, Barcode meaning in hindi।

आजकल बारकोड हर जगह है और यह इतना इस्तेमाल होता है कि कई बार तो हम इसको अनदेखा कर देते हैं। यानी यह हमारी जिंदगी में बहुत घुल मिल गया है। इसकी वजह से हमारी जिंदगी आसान हो गई है और ऐसे कई जगह हैं जहाँ पर यह काम आता है।

इस technology को 70 से ज्यादा साल हो गए हैं पर आज भी यह हमें अचंभा कर देता है कि बारकोड काम कैसे करता है। इसलिए आज मैं आपको इसके बारे में सारी जानकारी दूंगा कि यह कैसे बनता है, इसके फायदे क्या है, यह कितने प्रकार का है और आप इसे कैसे बना सकते हैं।

सारी जानकारी लेने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़े। अगर आपको यह लेख पसंद आता है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share करें ताकि उन्हें भी पता लगे की bar code कैसे काम करता है। चलिए जानते हैं bar code in Hindi।

Table of Contents

Barcode kya hota hai? बार कोड क्या होता है?

Barcode एक square या rectangle होता है जो सफेद या काली lines से मिलकर बनता है। यह lines अलग-अलग चौड़ाई की हो सकती है और इनके नीचे नंबर भी लिखा होता है। इस पूरे setup को बारकोड कहते हैं।

Barcode को barcode readers, smartphones, scanners की मदद से पढ़ा जा सकता है। इनको आंखों से पढ़कर नहीं समझ सकते। इनको packets के पीछे, license में, stationary में, आदि जगह लगाया जाता है।

How does a Barcode work? Barcode कैसे काम करता है? 

Barcode को scan करके बहुत समय और पैसा बचता है क्योंकि इन बारकोड में information होती है जो scanner द्वारा समझी जा सकती है। इसकी वजह से जानकारी को हाथ से लिखने की ज़रूरत नहीं पड़ती। तभी इनको ज्यादातर storage room और inventory में इस्तेमाल किया जाता है।

Barcode दो तरह के होते हैं 1d और 2d, 1d में linear barcodes आते हैं और 2d में matrix barcodes जैसे QR code। ज़्यादातर scanners सिर्फ 1d codes को ही scan कर पाते हैं पर आजकल smartphone की वजह से हर तरह का कोड scan हो जाता है।

2 तरह के linear barcodes हैं- UPC और EAN,

Universal Product Code और European Article Number। 

Barcodes की काली lines को 0 और 1 से associate किया जाता है और उनके sequence को 0-9 के बीच numbers से। जब एक scanner इस code को पढ़ता है तो उसे पता होता है कि किसी नंबर को कैसे calculate करके product का number निकालना है। 

फिर इस number को कभी भी track कर सकते हैं। गोदाम में इस code को manufacturing से लेकर packaging track करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है और दुकानों में इसको bill बनाने के लिहे इस्तेमाल किया जाता है। 

Also Read: Referral code kya hota hai?

Parts of a Barcode | बारकोड के हिस्से 

Barcodes कई तरह के होते हैं और इन सबके अलग- अलग parts होते हैं। इसलिए हम सब barcodes को एक ही category में नहीं डाल सकते। आज मैं आपको UPC barcode का बारे में बताऊंगा।

Barcode kya hota hai
  • Number system digit– यह digit बताता है कि product का type क्या है जैसे pharma, coupons, retails, आदि।
  • Company code– GS1 organization द्वारा हर कंपनी/ manufacturer को एक code दिया जाता है जो unique होता है। इससे product के कंपनी को track कर सकते हैं।
  • Product code– यह code manufacturer/कंपनी द्वारा बनाया जाता है और यह हर product के लिए अलग होता है। 
  • Check digit– Check digit जो data दिया गया है उसे चेक करता है कि वह ठीक है या नहीं और अगर कोई error होता है तो उसे spot करता है। 
  • Quiet zone– Quiet zone barcode के दोनों side white space होती है। यह space ज़रूरी होती है ताकि code को अच्छे से scan किया जा सके।
  • Guard bars– Guard bars पूरे कोड के मुकाबले लंबे होते हैं और scanner को help करते हैं। इनसे manufacturer code और product code का बंटवारा होता है और यह reference की तरह काम करते हैं। ऊपर दिए UPC code में 3 guard bars हैं। 

Types of Barcode | बारकोड के प्रकार

अगर broadly अंतर निकालें तो barcodes 2 तरह के होते हैं- Linear और Matrix।

  1. Linear/ 1D code

Linear barcodes काली और सफेद vertical lines से बने होते हैं। यह lines, numbers और alphabets से मिलकर बने होते हैं। इनको ज़्यादातर industrial कामों में इस्तेमाल किया जाता है। 

इसको scan करने के लिए database से connect होना ज़रूरी है क्योंकि यह सिर्फ एक identification की तरह काम करता है। इससे जुड़ी जानकारी database से निकली जा सकती है। इन barcodes को products, mails, books, shipping orders, आदि पर इस्तेमाल किया जाता है। 

  1. Matrix/ 2D code

Matrix code जैसे QR code ज़्यादा बेहतर है। इसमें linear barcode की तरह database से connect करने की ज़रूरत नहीं पड़ती। यह codes इतने advanced हैं कि इनमें data stored होता है। 

इनके pattern में data छिपा होता है जो सिर्फ scanner की पढ़ सकता है। यह barcodes के मुकाबले ज्यादा information store कर सकते हैं और उनसे ज़्यादा fast scan होते हैं। इनकी popularity की वजह से अब barcode का use बहुत कम होगया है और धीरे- धीरे इनकी लोकप्रियता हर field में फैल गयी है।

Matrix code का एक फायदा यह भी है कि इनको track किया जा सकता है, इसमें किसने scan किया, scan की location, ip address, mobile model, कितने लोगों ने scan किया, सब पता लगाया जा सकता है। इनको automated email, payments, scan, certifications, license, आदि में काम लाया जाता है। 

Barcode को narrowly कई हिस्सों में बांटा जा सकता है। इसके दुनिया में 100 से भी ज़्यादा प्रकार हैं। मैं आपको 9 common barcodes के बारे में बताऊंगा। 

  1. EAN– EAN (European Article Number)barcodes Europe और Asia में इस्तेमाल होते हैं। यह 13 digits और 8 digit के रूप में आते हैं। भारत में यह popularly ISBN के नाम से books पर देखने को मिलते हैं। 
  2. UPC– UPC codes America में इस्तेमाल होते हैं जिसमें product code, manufacturer code, चेक digit और number system digit जुड़ा होता है। इसकव standard version में 12 digit होते हैं और smaller version में 6 digit। UPC का मतलब है universal product code।
  3. Code 39– Code 39 का नाम इसलिए पड़ा क्योंकि इसमें 39 characters तक store हो सकते हैं। इसमें alphabets और numbers दोनों का इस्तेमाल किया जाता है, यह automotive और defense products में काम आता है। 
  4. Code 128– यह code ज़्यादातर containers, shipping में काम आता है क्योंकि यह कम soace में ज़्यादा info store कर सकता है। इसके high density pattern की वजह से 128 characters store करने की क्षमता होती है। 
  5. MSI Plessey– MSI plessey inventories और stores में काम आता है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें नंबर ही इस्तेमाल होते हैं और इसे कितना बड़ा भी लिख सकते हैं मतलब storage की कोई limit नहीं है। 
  6. GS1 databar– GS1 barcodes दूसरे सभी barcodes से अलग दिखते हैं। इसके कई variants हैं जैसे एक के ऊपर एक barcode, expanded barcode, omnidirectional barcode, आदि। इसे ज़्यादातर coupons, healthcare और eatable goods में लगाया जाता है। यह easily और जल्दी scan होजाता है।
  7. Codabar– Codabar में 20 characters तक लगाए जा सकते हैं और इसकव print करना सबसे आसान होता है। यह एक typewriter द्वारा भी print किया जा सकता है। यह code पुस्तकालय, deliveries, hospitals, healthcare, आदि में इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि जहां भी यह भी use होता है वह धीरे- धीरे QR codes से replace किया जा रहा है। 
  8. Code 93– Code 93 retail, logistics, electronics में काम आता है। यह code 39 से भी छोटा होता है और ज़्यादा dense होता है इसलिए उससे ज़्यादा जानकारी store कर सकता है। 
  9. ITF– 14 digit का यह barcode packaging material पर लगाया जाता है और cardboard पर print किया जा सकता है। इसमें एक भी alphabet letter इस्तेमाल नहीं होता इसलिए check digit लगाने की ज़रूरत नहीं पड़ती। 

Also Read: Promo code kya hai? Promo code क्या है?

Barcode ke fayde | बारकोड के फायदे

Barcodes को काफी जगह इस्तेमाल किया जाता है। जैसे कि मैंने आपको ऊपर बताया कि बारकोड कई तरह के होते हैं। Linear barcodes ने चाहे अपनी लोकप्रियता खो दी हो पर matrix codes जैसे QR code आजकल काफी use में हैं।

  • Inventory को track करना– Barcodes का common use होता है inventories और conveyor belts पर। 

एक कंपनी को हमेशा ध्यान रखना होता है कि उसके पास कितने products हैं और एक- एक product कहां पर है। बड़े-बड़े गोदाम में हर जगह scanners लगे होते हैं जो हर समय products को scan करते हैं जिससे यह पता लगता रहता है कि product कहां move हो रहा है।

  • Billing– आपने पहले stores में देखा होगा कि billing के समय counter पर barcode को scan किया जाता है। 

इससे प्रोडक्ट की सारी जानकारी computer में display होती है और bill में automatic product add होता रहता है। सिर्फ एक click में ही सारे products add हो जाते हैं और bill print हो जाता है।

  • Mails– Mails में barcodes को इस्तेमाल किया जाता है। एक mail कंपनी हर mail को इस barcode के ज़रिए track करती रहती है। अगर वह mail वापिस आ जाती है तो कंपनी सीधा उस barcode को scan करके पता लगा सकती है कि कौन से customer को contact करना है।
  • No errors– क्योंकि प्रोडक्ट की जानकारी अपने हाथों से नहीं लिखनी पड़ती तो error की गुंजाइश कम रहती है। बारकोड की मदद से accurate info को स्कैन कर सकते हैं और जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • Data collect करना– Barcodes जब scan होते हैं तो stores और कंपनियों को पता लगता है कि कितनी sales हो रही हैं। उनके लिए data collect होता रहता है और उसके हिसाब से वह अपने फैसले ले सकते हैं।
  • Cost में कटौती– Barcode की वजह से time भी बचता है और cost भी। जितना समय और पैसे लोगों को hire करने में जाते, वह समय अब चुटकियों में हो जाता है और वह भी एक simple setup से।

Barcode kaise banaye | बारकोड कैसे बनाएँ?

Barcode बनाने के 4 steps हैं। 

  1. Barcode type चुनना
  2. Product code बनाना
  3. Code generate करना
  4. Code print करना

अब मैं आपको इन सभी points के बारे में detail में बताऊंगा।

1. Barcode type

ऊपर मैंने आपको बताया कि बारकोड के कितने प्रकार होते हैं। हर किसी का अलग-अलग field में इस्तेमाल होता है और वह उसी में काम आते हैं जैसे retail, healthcare, delivery, inventory, defense, automotive, supermarket, आदि।

आपको भी पहले चुनना होगा कि किस purpose के लिए barcode बनाना है। आप यहां barcode का purpose देख सकते हैं। 

2. Product code

Product code 2 तरह के होते हैं- UPC और SKU।

UPC(Universal Product Code) ज़्यादातर तब इस्तेमाल होता है जब आपको एक global product बनाना हो जो अलग- अलग देशों में deliver हो सके। यह GS1 organization से register करवाना पड़ता है। इस code को लेकर आप online websites पर भी बेच सकते हैं।

SKU(Stock Keeping Unit) तो कोई भी आदमी खुद बना सकता है। आपके पास जो भी products हैं उनकी अलग- अलग numbering कर दीजिए बस। सोचिए आपने number बना लिया, उसका barcode बनाकर print करदिया, फिर उस print को जब scan करेंगे तो data दिखेगा। उस data को show करने के लिए आपको software download करना होगा।

3. Generate code

Barcode meaning in hindi

Product code बनाने के बाद अब बारी है barcode बनाने की। सबसे आसान काम है एक online website के ज़रिए बनाना, यह free है और इसमें कम time लगता है। 

Website में घुसते ही आप से barcode type पूछा जाएगा, data लिखना होगा या product code। उसे भरें और barcode generate हो जाएगा। फिर उसे download करलें। कुछ popular online barcode websites हैं-

  • barcode.tec-it.com
  • Seagullscientific.com
  • Poscatch.com
  • Barcodesinc.com
  • Ruggedtabletpc.com
  • Cognex.com
  • Scandit.com

अगर आप एक बिज़नेस या supermarket में हैं, तो बार बार website से barcode generate नहीं कर सकते। ऐसी जगहों पर instant code बनाना पड़ता है इसके लिए आप portable barcode printer का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आपने petrol pumps पर देखा होगा कि आजकल सिर्फ card को swipe करके bill निकल आता है, इसी तरह portable printers में data डालना पड़ता है और barcode बाहर निकल आता है। इस barcode को instant product पर चिपका सकते हैं।

4. Code print

अगर आप portable printer इस्तेमाल करते हैं तो यह point skip करें पर अगर website से code download करते हैं तो इस point को पढ़ें।

Barcodes को print करने के लिए printer की ज़रूरत होगी। यह normal printers से भी print हो सकता है और thermal label printers से भी। 

एक businessman barcodes कैसे बनाए?

व्यापारियों को barcode बनाने के लिए सिर्फ तीन चीजें चाहिए।

  1. Printer– इसके लिए हम normal printer भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पर अगर आप स्पेशल barcode printer को लगाना चाहते हैं तो 5-10 हज़ार रुपये के बीच में खरीद सकते हैं।
  2. Database– Database की ज़रूरत इसलिए होती है ताकि products को उनकी value दे सकें। जो barcode बनाया है उसमें information store कर सकें। यह barcode database softwares की मदद से मुमकिन है। 
  3. Scanner– एक दुकान या store में आप हमेशा mobile phone का इस्तेमाल नहीं कर सकगे इसलिए आपको scanner खरीदना ही होगा। Laser scanners 2 फ़ीट तक scan कर सकते हैं वहीं दूसरी और LED scanners ज़्यादा बेहतर scan करते हैं पर उनकी range कम होती है।

Also Read: Gana download karne wala apps

How to scan barcodes? बारकोड कैसे scan करें?

Barcode scan करने के लिए पहले मुश्किल होती थी और महंगा सौदा था। पर आजकल लोग mobile phone से ही scan करलेते हैं। 

Barcode को scan करने के 3 तरीके हैं-

  • Barcode scanner– आपने इसे supermarket में ज़रूर देखा होगा। इस device की मदद से किसी भी product के ऊपर barcode को ढूंढें और उसे scan करें। इसी की तरह flat scanner भी है जिसके ऊपर से product को swipe करें। उसके बाद beep की आवाज़ आएगी जिसका मतलब barcode scan हो गया है।
  • Apps– Play Store और apple store पर ऐसे बहुत से apps उपलब्ध हैं जिनसे आप barcode scan कर सकते हैं। यह apps किसी भी तरह के barcode को autodetect कर सकते हैं इसका मतलब आपको उसे बताने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी की कौनसा barcode type है। 
  • Website– Barcode को scan करने का सबसे आसान तरीका है phone में online barcode scanner website खोलें और scan करें। 

Barcode history | बारकोड का इतिहास

Norman Joseph Woodland और Bernard Silver दोनों ने मिलकर बारकोड को बनाया। 1949 में उन्होंने इसका patent खरीद लिया पर कुछ साल बाद बेच दिया। 1960 में  railways ने barcode का इस्तेमाल train side पर लगाना शुरू किया ताकि आती जाती trains को एक scanner के ज़रिए track कर सकें। यह project David Jerrett Collins द्वारा lead किया गया था। 

हालांकि इस process में issues आने लगे। फिर इसे General motors ने शुरू किया जिसमें वे manufacturing process में शुरू से लेकर अंत तक product को track कर सकते थे। पर barcode की असली popularity तब बढ़ी जब 1970 के दशक में grocery stores ने इसे लगाना शुरू कर दिया।

उसी समय National Association of Food Chains ने भी 11 digit code को निर्धारित किया। 1980 के दशक तक हजारों लोग इसे इस्तेमाल करने लगे, यह ज्यादा से ज्यादा दुकानों में दिखने लगा और अलग- अलग देशों में फैल गया। 


Conclusion

मुझे उम्मीद है कि आप को इस से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा और समझ आ गया होगा Barcode kya hota hai, Barcode kya hai के बारे में। 

अगर आपको यह article पसंद आया तो आप इसको अपने प्रियजनों के साथ जरूर share कीजिएगा।

आज हमने सीखा-

  1. Barcode reader kya hai
  2. Bar code के प्रकार
  3. Bar code कैसे scan करें

आप का experience कैसा रहा आप उसे नीचे comment box में share कर सकते हैं और अगर आपको कोई doubt या problem है तो आप मुझसे नीचे comment box में पूछ सकते हैं या email कर सकते हैं।

में आपको जल्द से जल्द reply देने की कोशिश करूँगा। 

धन्यवाद……..।

Bar code in hindi और Barcode kaise banaye  पढ़ने के लिए शुक्रिया।


FAQ (Frequently Asked Questions) 

QR Code me kitne digit hota hai

QR code में maximum 7089 digits आ सकते हैं। यह module के size पर depend करता है कि उसमें कितनी जानकारी आ सकती है।

QR Code scanner kya Hota hai

QR scanner एक device है जिससे कोई भी QR code instantly scan कर सकते हैं। यह qr code के patterns सुर pixel design को समझकर data show करता है।

QR Code Kaise Banaye

QR code बनाने के लिए online qr code generator website पर जाएं और data लिखें। फिर उसको QR code में convert करें। आप colors और अलग- अलग patterns का इस्तेमाल कर सकते हैं, अपना logo insert कर सकते हैं, आदि।

Bar Code full form in Hindi

Bar code का कोई full form नहीं है। इसे bar code इसलिए बोला जाता है क्योंकि यह काली और सफेद vertical lines की मदद से बना होता है। यह lines bars की तरह दिखती हैं।

भारत का बार कोड नंबर क्या है

भारत का barcode country नम्बर है 890.

बारकोड कैसे बनाये

Barcode बनाने के लिए आप online barcode websites का इस्तेमाल करें, इनमें आपको barcode type डालना है फिर जानकारी add करनी है। उसके बाद barcode download करना है। यह barcode बनाने का सबसे आसान तरीका है।

बारकोड रीडर क्या है

Barcode reader एक device है जिससे barcode को instantly scan कर सकते हैं।

Barcode generator

कुछ famous online barcode generators हैं-
1. barcode.tec-it.com
2. Seagullscientific.com
3. Poscatch.com
4. Barcodesinc.com
5. Ruggedtabletpc.com
6. Cognex.com
7. Scandit.com

QR code full form

QR code का full form है Quick Response Code.

ओएमआर क्या है

OMR (Optical Mark Recognition) technology है।

बारकोड का आविष्कार किसने किया

Norman Joseph Woodland और Bernard Silver दोनों ने मिलकर बारकोड का आविष्कार किया।

बारकोड में कितने अंक होते हैं?

बारकोड अलग- अलग तरीके के होते हैं। ज्यादातर बारकोड में 8- 13 नंबर होते हैं पर कुछ barcodes में limit ही नहीं होती है।

बारकोड स्कैन कैसे किया जाता है?

Barcode scan करने के 3 तरीके हैं-
1. Barcode scanner की मदद से
2. Mobile app की मदद से
3. Online website की मदद से

कितने बारकोड होते हैं?

बारकोड के प्रकार 100 से भी ज़्यादा हैं।

बारकोड का आविष्कार किसने और कब किया था?

Norman Joseph Woodland और Bernard Silver दोनों ने मिलकर बारकोड का आविष्कार 1949 में किया।

बारकोड क्या है और इसके उपयोग क्या हैं?

Barcode एक square या rectangle होता है जो सफेद या काली lines से मिलकर बनता है। यह lines अलग-अलग चौड़ाई की हो सकती है और इनके नीचे नंबर भी लिखा होता है। इस पूरे setup को बारकोड कहते हैं।
Barcode को barcode readers, smartphones, scanners की मदद से पढ़ा जा सकता है। इनको आंखों से पढ़कर नहीं समझ सकते। इनको packets के पीछे, license में, stationary में, आदि जगह लगाया जाता है।

बारकोड क्या है और इसके प्रकार?

Barcode एक square या rectangle होता है जो सफेद या काली lines से मिलकर बनता है। यह lines अलग-अलग चौड़ाई की हो सकती है और इनके नीचे नंबर भी लिखा होता है। इस पूरे setup को बारकोड कहते हैं। बारकोड के 100 से भी ज़्यादा प्रकार हैं।

Barcode kya hota hai
Follow me
Latest posts by Aryan (see all)

Leave a Comment